शुक्रवार, फ़रवरी 02, 2007

किस्सा कुर्सी का

.
कई दशकों से बैचैन जी ने बॉलीवुड की बादशाहत का ताज पहन रखा है. अच्छा अभिनय, कड़ी मेहनत, लगन और ईमानदारी से बेचैन जी ने अपने लिये जो जगह बनाई है, बेशक ही वह उस स्थान के पूरे हकदार हैं. चाह कर भी जब उन्होंने उस स्थान से नीचे उतर कर किसी और वहाँ बैठा देखना चाहा – तो भी ऐसा ना कर सके. बेचैन जी की ने ‘सुपरस्टार’ के स्थान को ऐसी ऊंचाई पर पंहुचा दिया है जिस ऊंचाई तक पहुंचने का प्रयास तो कई लोगों ने किया (और कर भी रहे हैं) लेकिन वहाँ पंहुच नहीं सके.
.
बेचैन जी की बेचैनी भी अटल जी की तरह है, बिना किसी उपयुक्त विकल्प के, नम्बर 1 के स्थान से चाह कर भी हट नहीं पा रहे हैं. इसके साथ कुछ और भी बातें थीं जो हमारे प्रिय बेचैन जी को बहुत चिंतित कर रही थीं और उसमें सबसे ऊपर थी कि उनके एकलौते बेटे ने अब तक अग्नि के सात फेरे नहीं लगाये थे. खैर, बेचैन जी की यह चिंता अब दूर हुयी है – उनके पुत्र ने अपनी प्रेयसी के साथ विवाह करने का ऐलान करते हुये, उससे मंगनी भी कर ली है.
.
बेचैन जी को इससे बहुत राहत मिली – बेचैन दिल को चैन मिला और उन्होंने अपने व्यस्त कार्यक्रम से कुछ दिन चुरा कर छुट्टी पर जाने का फैसला किया.
.
अब बेचैन जी जैसे व्यक्ति के लिये यह भी एक भारी भरकम समस्या है कि ‘जायें तो जायें कहाँ?”. सारी दुनिया तो घूम ही चुके हैं – और फिर जहाँ भी जाओ लोग-बाग घेर लेते हैं – आटोग्राफ माँगने लगते हैं – वहां भी चैन नहीं.
.
ऐसे में किसी करीबी दोस्त ने बेचैन जी को ‘अंतरिक्ष पर्यटन’ (Space Tourism) के विषय में ना ही सिर्फ बताया बल्कि रूस में तैनात इन कम्पनियों के पते वगैरह भी बताए.
.
बेचैन जी को पर्यटन का यह रोमांचकारी विचार बहुत भाया. बस फिर क्या था, बेचैन जी ने रूस की एक निजी कम्पनी को फोन लगाया और अपनी अंतरिक्ष यात्रा का टिकट बुक कर डाला.
.
उनकी छुट्टी को मीडिया कहीं तमाशा ना बना दे, इसलिये उन्होंने ने यह बात ‘सबसे’ छिपा कर रखी और चुप चाप रूस के लिये रवाना हो गये.
.
लेकिन अपने देश का मीडिया कोई मामूली मीडिया है, जब भैंस और बकरी के खो जाने तक की खबर रख सकते हैं तो फिर बेचैन जी का ‘गायब’ होना कोई मामूली बात है. एक निजी चैनल ‘तहलका’ ने पता कर ही लिया कि बेचैन जी रूस की एक निजी कम्पनी की मदद से अंतरिक्ष की यात्रा पर जा रहे हैं और उन्होंने झटपट अपना संवाददाता (खबरिया) रूस के लिये रवाना कर दिया, ताकी वह खुफिया तरीके से बेचैन जी की अंतरिक्ष यात्रा को कैमरे में कैद कर लाये और चैनल रात दिन उसे दिखा देखा कर पैसे बटोर सके. मुआ संवाददाता भी, जाते-जाते अपनी बीबी के कान में अपनी यात्रा का कारण फुसफुसा ही गया.
.
कुछ दिनों तक तो मेमसाहिब ने इस बात को अपने पेट में रखा लेकिन जब पेट दर्द और खट्टी डकारों से परेशान हो गयीं तो फिर मजबूरी में उन्हें यह उगलना ही पड़ गया.
.
इन सब बातों से अनभिज्ञ बेचैन जी रूस में अपनी अंतरिक्ष यात्रा की तैयारियों में लगे हुये थे. और ‘तहलका’ टीवी के संवाददाता उनकी गतिविधियों को लगातार कैमरे में कैद कर रहे थे.
.
आगे का विवरण ‘तहलका’ के संवाददाता के कैमरे पर बनी फिल्म पर आधारित है, बहुत ‘एक्सक्लूसिव’ ब्योरा है सिर्फ ‘पानी के बताशे’ पर उपलब्ध है – दरअसल अपने रूसी (बालों वाली नहीं) जुगाड़ों की मदद से मैंने उस कैमरे की फिल्म चोरी करवा ली थी – किसी से बताइयेगा नहीं – एक्सक्लूसिव फॉर हिन्दी ब्लागर्स. आइये देखें;
.
बेचैन जी ने अपना अंतरिक्ष सूट पहना हुआ है और अपनी सीट पर बेल्ट बाँध कर बैठ गये हैं.
उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है – 9 – 8- 7 – 6 – थोड़ी ही देर में बेचैन जी अंतरिक्ष की ओर रवाना हो जायेंगे, यह फुटेज सिर्फ हमारे ‘तहलका’ टीवी के दर्शकों को ही उपलब्ध है, उल्टी गुनती चालू है...
.
अरे यह क्या...? अविश्वस्नीय ! मुझे अपनी आँखों पर विश्वास नहीं हो रहा है...! !
.
(कैमरा खुले मैदान की ओर घूमता है, एक आदमी भागता हुआ दिखायी दे रहा है)
.
देखिये, दूर से भारतीय मूल का एक व्यक्ति दौड़ता हुआ चला आ रहा है, दूर होने की वजह से मैं उसे ठीक से देख या पहचान नहीं पा रहा हूं. हाँ, यह बात समझ में आ रही है कि यह आदमी हाथ हिला कर, चिल्लाते हुये कुछ कहने का प्रयास कर रहा है जो यहाँ से सुनाई नहीं दे रहा है...
.
देखते रहिये यह एक्सक्लूसिव फुटेज ओनली ऑन ‘तहलका’ टीवी.....
.
उल्टी गिनती बंद कर दी गयी है...लगता है ब्लास्ट ऑफ स्थगित कर दिया गया है...
.
और इस तरफ अब साफ नज़र आ रहा है, इस आदमी ने धोती कुर्ता पहना हुआ है, आँखों पर सुनहरे फ्रेम का चश्मा लगा हुआ है, सिर पर बाल थोड़े से कम हैं, अधेड़ उम्र के लगते हैं.....लगता है जैसे चिल्लाते हुये कह रहे हों “कॉल ऑफ़...डोंट लॉंच..” हलाँकि यह बात मैं पक्के तौर पर कह नहीं सकता कि वक क्या कह रहा है....इसी बीच सुरक्षा कर्मियों ने उसे दबोच लिया है और वह उसे यान के पास जाने से रोक रहे हैं.....
.
मैं भी अपना कैमरा ले कर उसके पास जाता हूं ताकि आप भी पूरा नज़ारा पास से देख सकें.....
.
देखते रहिये यह एक्सक्लूसिव फुटेज ओनली ऑन ‘तहलका’ टीवी.....
.
(कैमरामैन और संवाददाता यान की ओर जाने को कसमसाते हुये आदमी की ओर भागते हैं)
.
देखिये अब हम पंहुचने ही वाले हैं और मुझे अब साफ दिख भी रहा है....अरे यह क्या....यह तो गज़ब हो गया (कैमरा मैन से – इन पर फोकस करो, इन पर फोकस करो...)....सभी दर्शक गण गौर से देखिये यह और कोई नहीं बल्कि हमारे नेता कमर सिंह जी हैं और वो चिल्ला कर कुछ कह रहे हैं....हम और भी पास जाते हैं.....
.
देखते रहिये यह एक्सक्लूसिव फुटेज ओनली ऑन ‘तहलका’ टीवी.....
.
(कैमरा कमर सिंह जी का क्लोज़ अप लेता हुआ, कमर सिंह कैमरे की ओर देखते हुये)
.
“अरे कोई रोको, अरे कोई रोको, भगवान के लिये कोई रोको....” और फिर यान की तरफ देखते हुये,” बड़े भैया मत जाइये, हमसे क्या गलती हो गयी बड़े भैया? मत जाइये ना.......”
.
देखिये.... कमर सिंह जी ने भी पता लगा लिया है बेचैन जी की यात्रा के बारे में और अब वह यहाँ पर बेचैन जी को रोकने के लिये आये हुये हैं (बैक ग्राउंड में कमर सिंह का क्रंदन और छटपटाना दिखाई और सुनाई पड़ रहा है) ....कमर सिंह जी क्या आप हमें बताएंगे कि आप को बेचैन जी की यात्रा के बारे में कैसे पता चला...”
.
“अरे कोई रोको.....बड़े भैया मत जाओ...क्या गलती हुयी हमसे बड़े भैया...बतला तो दो...अरे कोई रोको, मोरे गोरे गोरे बड़े भैया.....”
.
कमर सिंह जी, क्या आप बताएंगे आपको पता कैसे चला...”
.
“अबे %&ं#$ पत्रकार, तुझे इतनी स्कॉच इसी दिन के लिये पिलाई थी कि तुम मुझे यह बात ना बताओ.....खिला पिला कर मोटा किया और मुझसे ही पूछ रहे हो, कैसे पता किया.....तुम्हारी बीबी ने ढ़ोल पीट दिया है.....सारे देश को पता चल गया है....काफी लोग आ रहे हैं......सारी फ्लाइट्स भरी हुयी हैं.....अरे कोई रोको.....बड़े भैया...”
.
देखते रहिये यह एक्सक्लूसिव फुटेज ओनली ऑन ‘तहलका’ टीवी.....
.
जैसा कि आपने कमर सिंह जी से सुना कि भारत से काफी लोग यहाँ आने वाले हैं, लेकिन यह बता देता हूं कि अब तक का एक्सक्लूसिव नज़ारा सिर्फ ‘तहलका’ टीवी पर ही उपलब्ध है.....
.
और यह क्या.....पता चला है कि अंतरिक्ष यान के अंदर बैठे बेचैन जी तक कमर सिंह के आगमन की सूचना पहुंचा दी गयी है.....
.
....और बेचैन जी यान से बाहर आ रहे हैं....उन्होंने अपना अंतरिक्ष सूट भी नहीं उतारा और ऊपर से ही कूद कर कमर सिंह की तरफ ‘कमर मेरे भाई...कमर मेरे भाई’ कहते हुये दौड़ते आ रहे हैं......कमर जी ने भी सुरक्षा कर्मियों को जोर से धक्का और मुक्का मार कर खुद को मुक्त किया और दौड़ पड़े हैं बेचैन जी की तरफ.....
.
कैसा मार्मिक दृश्य है.....मेरी तो आँखें छलक उठी हैं...गला भर्रा रहा है......आप सब देखिये यह अनोखा ‘भरत मिलाप’ .... देखते रहिये यह एक्सक्लूसिव फुटेज ओनली ऑन ‘तहलका’ टीवी.....
.
बेचैन और कमर गले मिल रहे हैं...और बेचैन जी ने कमर सिंह का हाथ थाम लिया है और वह मैदान से बाहर जा रहे हैं......
.
बेचैन जी...बेचैन जी क्या आपने अपनी अंतरिक्ष यात्रा कैंसिल कर दी है...?
.
“हां भाई, अगली बार दो टिकटें बुक करवाऊंगा और कमर को साथ ले कर जाऊंगा, फिलहाल यात्रा निरस्त”
.
लगता है कि हमें अपनी यह एक्सक्लूसिव स्टोरी यहीं समाप्त करनी पड़ेगी, बेचैन जी और कमर सिंह जी वापस भारत जा रहे हैं.......
.
अब हम आप से विदा लेते हैं..... कैमरा मैन सूरदास के साथ मैं हूं खबरिया, ‘तहलका’ टीवी के लिये........
.
ठहरिये.....यह मैं क्या देख रहा हूं (कैमरा मैन से कीप रोलिंग बडी, कीप रोलिंग!), मैदान के दूसरे छोर से कई हिन्दुस्तानियों का हुजूम मैदान में घुसा आ रहा है.....
.
मिलते हैं एक छोटे से ब्रेक के बाद, यह जानने के लिये कि ये कौन लोग हैं?
.
देखते रहिये यह एक्सक्लूसिव फुटेज ओनली ऑन ‘तहलका’ टीवी.....
.
इस बड़े से हुजूम में मुझे बॉलीवुड की कई नामी हस्तियाँ दिखायी दे रही हैं, लगता है ये लोग भी बेचैन जी को वापस लेने आये थे. और इस हुजूम में सबसे आगे किंग खान – बादशाह खान हमारे प्यारे शहतूत खान भी हैं – कितना चाहते हैं वह बेचैन जी को! पर यहां कुछ कंफ़्यूज़न सा लगता है, शहतूत खान का दल बेचैन जी के पीछे ना जाकर अंतरिक्ष यान की ओर बढ़ गया है....आइये वहीं चल कर पता करते हैं.
.
किंग खान जी आप यहां कैसे?
.
“हाय! (सिगरेट का धुंआ उगलते हैं) मुझे बेचैन जी की यात्रा के बारे में पता चला, इसलिये मैं यहां आया हूं – ताकि उनको यान से उतार सकूं”
.
लेकिन उनको उतारने क्यों आये हैं?
.
“अरे भाई वो इसलिये कि जब वह अपनी यात्रा निरस्त करेंगे तो उनकी खाली सीट पर मैं धावा बोल दूंगा.”
.
तो आप चाहते हैं कि बेचैन जी अपनी गद्दी खाली करें और आप झटपट उस पर चढ़ जायें.
.
“हाँ भाई, देखो उनके ही पीछे पीछे चल रहा हूं, पहले ‘डॉन’ बना, फिर “Eye See I Sea I” का ब्रॉड अम्बेसडर बना फिर “करोड़पति” बना...”
.
मतलब कि आप उनका उतारा फेंका सब कुछ लपक लेते हैं?
.
“हाँ भाई, उनके आँगन में लंगड़ मार कर उनकी चढ़्ढ़ी बनयान भी उतार लाता हूं...उनके जैसा बनना है, उनकी कुर्सी चाहिये.”
.
ओह आई सी
.
"मेरा बेटा अभी छोटा है नहीं तो मैं ऐशू को अपनी बहू भी बना लेता."
.
आँयें...!!!
.
“यहाँ आकर पता चला कि कमर सिंह जी बेचैन जी को साथ ले गये हैं, तो लगा कि उनकी सीट खाली हो गयी है, इसलिये अब मैं इस सीट को अपने लिये क्लेम करने जा रहा हूं”
.
तो (यान में) बेचैन जी की सीट आप लेने जा रहे हैं!
.
“या, यू सी आय ऐम हियर टु टॉक टू दीज़ स्पेस पीपुल अबाउट इट.”
.
आप लोग देखिये शहतूत खान कैसे अपने चार्म से नम्बर वन की कुर्सी पर विराजमान होने जा रहे हैं – एक्सक्लूसिव ऑन “तहलका”.
.
शहतूत जी इस समय अंतरिक्ष यान कर्मियों से वार्तालाप कर रहे हैं, आइये आप भी सुनिये,
.
“हे..हे..हे..आय ऐम किंग खान, बादशाह खान, शहतूत खान – अभी अभी बेचैन जी ने जो सीट छोड़ी है, वह सीट मुझे चाहिये. बिकॉज़ आय ऐम किंग खान.”
.
“सॉरी सर यह सीट तो बेचैन जी की थी, उनके अलावा किसी और को नहीं दी जा सकती है.”
.
“हे...हे...हे...किसी और की बात नहीं कर रहा हूं मैं. मैं अपनी बात कर रहा हूं – किंग खान की बात कर रहा हूं - क्यों नहीं दी जा सकती है? देखो मेरे साथ कितना बड़ा हुजूम है. इस हुजूम में करण है, चोपड़ा है, जौहर है, घई है, डॉन है, करोडपति है - किसी से भी पूछ लो – आय डिसर्व दिस सीट.”
.
“देखिये हमको उन सब से पूछने की ज़रूरत नहीं है – यह सीट आप को नहीं मिल सकती – बस.”
.
“हे...हे...हे..आय विल पे यू...”
.
“पे करने से भी नहीं मिलेगी.”
.
“पे करने से कैसे नहीं मिलेगी, मैंने मशहूर अखबारों जैसे “द स्लाइम्स ऑफ इंडिया” और “हिन्दुस्तान स्लाइम्स” को पे करके उनसे नम्बर वन खान – किंग खान – बादशाह खान जैसे ख़िताब ले लिये तो फिर यह सीट क्यों नहीं? हुम्म...”
. .
“जी, वह इसलिये नहीं मिल सकती क्योंकि हमारे अंतरिक्ष यान में सीट खास तौर से व्यक्ति विशेष के लिये बनाई जाती है, बेचैन जी की ऊंचाई काफी ज़्यादा है – आप उस ऊंचाई तक अभी पहुंच नहीं पाये हैं. उस सीट पर बैठने के लिये आपको अपनी ऊंचाई बढानी पड़ेगी. फिर यह सीट आपको मिल सकती है.”
.
“हे..हे..हे..मैं समझ गया, मैं आज से ही इंक्रीमेंट टॉनिक पीना शुरू करता हूं...पर यह सीट ले कर रहूंगा – तुम नहीं दोगे तो “द स्लाइम्स ऑफ इंडिया” और “हिन्दुस्तान स्लाइम्स” दे देगा...”
.
शहतूत खान को फिलहाल बेचैन जी की सीट नहीं मिली और वह वापस इंडिया जा रहे हैं इस उम्मीद से कि उनका कद शायद कभी इतना ऊंचा हो सके कि वह बेचैन जी की सीट पर चढ़ सकें.
.
तहलका टीवी के लिये मैं खबरिया, कैमरामैन सूरदास के साथ अब आप से विदा लेता हूं – नम्स्कार.
.
चलते – चलते:
.
अभी अभी समाचार मिला है कि कई संस्थाओं ने देश की कई नामी गिरामी हस्तियों की अंतरिक्ष यात्रा के लिये जनसाधारण से चंदा लेना शुरू कर दिया है.
.
अखिल भारतीय विद्यार्थी गैंग ने चंदा जमा करके मान संसाधन विनाश मंत्री श्री दुर्जन सिंह को अंतरिक्ष यात्रा का टिकट भेंट किया है. (अंदर की बात यह है कि यह टिकट वन वे है).
.
अगर आपको भी ऐसी ही कोई ख़बर मिले तो मुझे बताइयेगा ज़रूर.
.
चलो दिलदार चलो,
चाँद के पार चलो,
हम हैं तैयार चलो...

11 टिप्‍पणियां:

Atul Arora ने कहा…

हाल आफ फेम। जिस किताब में , अखबार में यह लेख छप जाये , उसको चार चाँद लगा देगा यह लेख। बधाई।

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत सही अनुराग भाई!!

-वैसे अभी अभी खबर मिली है कि चिट्ठाजगत में भी चंदा इक्कठा किया जा रहा है, आपकी वन वे टिकट के लिये...कितना डर रहे हैं लोग..आपके झक्कास लेखन से!! मैं तो स्वभाव से दानी हूँ सो मना नहीं कर पाया और मैने भी चंदा दे दिया है, कृप्या अन्यथा न लें :)

Jagdish ने कहा…

झक्कास लिखेला है भाई!
मजा आ गया :)

गिरिराज जोशी "कविराज" ने कहा…

क्या लिखते हो भाई!!!

आह्ह आनन्द आन्नदम!!! मजा आ गया, किंग ख़ान के लिए खेद हुआ उन्हें सीट मिल जानी चाहिये थी, खेर कोई बात नहीं।

@गुरूदेव

मैने भी चंदा दे दिया है, मुझसे कहा गया था कि आपके गुरूदेव का आदेश है...

Shrish ने कहा…

पढ़ते रहिये मजेदार एक्सक्लूसिव पोस्टें ओनली ऑन ‘पानी के बताशे’ ब्लॉग.....

Divine India ने कहा…

अनुराग भाई,
बहुत गुदगुदाया…क्या झकास प्रस्तुतिकरण है…एक-2 बात को बड़े अंदाज से कहा वहाँ मन की विवेचना भी कर डाली…बधाई हो इस तहलका एक्सक्लूसिव के लिए!

Tarun ने कहा…

अनुराग, मजा आ गया पढके, हंसी की हंसी व्यंग्य का व्यंग्य। एक बताशे से दो स्वाद, आते रहिये और खाते रहिये एक्सक्लूसिव ओनली ऑन......

राजीव ने कहा…

भाई अनुराग जी,

मज़ा आ गया। कितनी कड़ियों को एक साथ पिरो दिया व्यंग्य के तार में!

हम तो प्रतीक्षा करेंगे - ब्रेक के बाद भी!

manisha ने कहा…

samajha me nahi aa raha kya liko...bahut ki maja aa aaya parkar....intejar kai next xclusive report ka

अतुल श्रीवास्तव ने कहा…

हम में है वो दम
जो बनाये गधे को घोड़ा और कौये को हंस.
अरे हमको न समझो सींकिया पहलवान
हम बना दें गली के निठल्ले को किंग खान.
पूछते हो कि कौन हैं हम
हम हैं "छिछ्छी टीवी", "द स्वाईंस ऑफ इंडिया" और 'हिन्दुस्तान स्लाईम्स".
हमें बस दारू पिलाओ, मुर्गा खिलाओ
और फिर जो चाहे बन जाओ.

जय हो गुरुदेव जय हो...

rachana ने कहा…

अहा!! मजा आ गया पढकर!